Leo Tolstoy Ki Lokpriya Kahaniyan (Hindi)


Price: ₹70.80
(as of Apr 13, 2024 10:30:34 UTC – Details)



‘‘क्या वे लोग खेत जोत रहे हैं? क्या उन लोगों ने अपना काम खत्म कर लिया?’’ ‘‘उन लोगों ने आधे से अधिक खेत जोत लिये हैं।’’ ‘‘क्या कुछ भी काम बचा नहीं है?’’ ‘‘मुझे तो नहीं दिखा; पर उन्होंने जुताई अच्छी तरह से की है। वे सभी डरे हुए हैं।’’ ‘‘ठीक है। अब तो जमीन ठीक हो गई है न?’’ ‘‘हाँ, अब खेत तैयार हैं और उनमें अफीम के पौधों के बीज डाले जा सकते हैं।’’ मैनेजर थोड़ी देर चुप रहने के बाद बोला, ‘‘वे लोग मेरे बारे में क्या कहते हैं? क्या वे मुझे गाली देते हैं?’’ बूढ़ा कुछ हकलाने लगा, पर माइकल ने उसे सच बोलने के लिए कहा, ‘‘तुम मुझे सच बताओ। तुम अपने शब्द नहीं, बल्कि किसी और के शब्द बोल रहे हो। यदि तुम मुझे सच-सच बताओगे, तब मैं तुमको इनाम दूँगा; और अगर तुम मुझे धोखा दोगे तो ध्यान रखना, मैं तुम्हें बहुत मारूँगा। कर्तुशा! इसे एक गिलास वोदका दो, ताकि इसमें साहस पैदा हो।’’ —इसी संग्रह से सुप्रसिद्ध रूसी कथाकार लियो टॉलस्टॉय ने जीवन के सभी पक्षों पर प्रभावी रचनाएँ की हैं। उन्होंने धर्म में व्याप्त पाखंड तथा तत्कालीन कुरीतियों को अनावृत किया। मनोरंजन के साथ-साथ मन को उद्वेलित करनेवाली सरस टॉलस्टॉय की लोकप्रिय कहानियों का संग्रह।.

“Leo Tolstoy Ki Lokpriya Kahaniyan” by Leo Tolstoy: “Leo Tolstoy Ki Lokpriya Kahaniyan” appears to be a collection of popular stories by the renowned Russian writer Leo Tolstoy. The book likely features Tolstoy’s celebrated literary works that have resonated with readers worldwide.

Key Aspects of the Book “Leo Tolstoy Ki Lokpriya Kahaniyan” by Leo Tolstoy:
Literary Collection: The book compiles a selection of Leo Tolstoy’s beloved short stories and narratives, showcasing his literary craftsmanship.
Philosophical Themes: It may explore the philosophical and moral themes that Tolstoy often infused into his writings, offering readers food for thought.
Timeless Classics: “Leo Tolstoy Ki Lokpriya Kahaniyan” features stories that have stood the test of time and continue to captivate audiences with their depth and meaning.

Leo Tolstoy was a prolific Russian writer and philosopher known for his novels, essays, and short stories. This book likely celebrates his enduring literary legacy.


From the Publisher

Leo Tolstoy Ki Lokpriya Kahaniyan

Leo Tolstoy Ki Lokpriya KahaniyanLeo Tolstoy Ki Lokpriya Kahaniyan

Leo Tolstoy Ki Lokpriya KahaniyanLeo Tolstoy Ki Lokpriya Kahaniyan

ASIN ‏ : ‎ B01M9GCMY4
Publisher ‏ : ‎ Prabhat Prakashan (15 September 2020)
Language ‏ : ‎ Hindi
File size ‏ : ‎ 233 KB
Text-to-Speech ‏ : ‎ Enabled
Screen Reader ‏ : ‎ Supported
Enhanced typesetting ‏ : ‎ Enabled
Word Wise ‏ : ‎ Not Enabled
Print length ‏ : ‎ 134 pages

Scroll to Top